Wednesday, June 3, 2009

पटना बाई मिडनाइट बदल गई है तस्वीर


अभी पिछले शनिवार को सात-आठ घंटे के लिए पटना जाने का अवसर मिला। वैसे तो साल में एकाध बार जाना होता ही है। अमूमन जयपुर से जिस ट्रेन से जाता हूं, वह मध्य रात्रि बारह बजे बाद ही पटना पहुंचाती है। हर बार ऐसा ही होता था कि पटना के रहवासी सहयात्री भी वहां के माहौल को देखते हुए स्टेशन पर ही रात बिताने की सलाह देते थे और वे खुद भी हमारे साथ वेटिंग रूम में बैठकर ऊंघते रहते थे। इस दफा पहली बार ऐसा हुआ कि ट्रेन मध्य रात्रि साढ़े बारह बजे पटना पहुंची और स्टेशन पर रात नहीं बितानी पड़ी। अगले दिन दोपहर को मेरी ट्रेन थी, सो मुझे पटना में ही भतीजे के कमरे पर रुकना था। मां-पिताजी को गांव ले जाने के लिए छोटा भाई गाड़ी लेकर आया था। मां-पिताजी और छोटे भाई को विदा करने के बाद भतीजे के साथ मैं महेंद्रू जाने वाली ऑटो पर बैठ गया। ऑटो में दो-तीन सवारियां और बैठीं। सवारियों को गांधी मैदान, अशोक राजपथ उतारने के बाद ऑटो चालक ने हमें भी सकुशल हमारे गंतव्य पर उतार दिया। वाकई जिस पटना में रात नौ बजे राहजनी के भय से गलियां सूनी हो जाती थीं, स्टेशन के बाहर बने होटल से रात को स्टेशन आकर गाड़ी पकड़ना भी खतरे से खाली नहीं हुआ करता था, वहां आधी रात को स्टेशन से महेंद्रू तक के बिना किसी विघ्न-बाधा के छोटे से सफर ने रोमांचित कर दिया। लालू-राबड़ी के करीब पंद्रह साल के शासनकाल में कानून-व्यवस्था की जिस कदर धज्जियां उड़ी थीं, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उसमें वाकई सुधार किया है और इसके लिए वे प्रशंसा के पात्र हैं।

14 comments:

Sachi said...

I am also witnessing many changes indirectly.

उपाध्यायजी(Upadhyayjee) said...

अच्छी बात है. पहला वाला जमाना रहता तो स्टेशन से महेन्द्रू के बीच में तो अंडी बनियाँ तक उतर लेता सब. सबसे पहले तो ऑटो वाला ही तैयार नहीं होता ले जाने के लिए.

Mrs. Asha Joglekar said...

सुन तो बहुत रहे थे नीतिश जी के सुशासन के बारे में आपका स्वानुभव पढकर बहुत अच्छा लगा ।

ajay kumar jha said...

haan ye badlaav maine bhee apnee pichhle yaatra mein spashttah mehsoos kiyaa tha....

singh in mood said...

main bhi abhi kuch din pehle bihar gaya tha bina kuch gawaye surakshit delhi aa gya. is se pehle do bar mera saman chori ho gaya tha

कविता वाचक्नवी Kavita Vachaknavee said...

Isi varsh mujhe Patna jane par bhi vahan ke logon ne aise hi tathya bataye tatha kaha ki Lootpat va gundagardi bahut kum ho gayi hai.

सौरभ शर्मा said...

आपका अनुभव पढ़ कर अच्छा लगा.
लगता है बिहार सुधरने की राह पर है .....
नीतिश जी की कोशिश रंग ला रही है

PD said...

jab main Patna me rahta tha tab bhi kabhi samay ki chinta nahi karta tha aur jab man me aaye tab ghoomta tha.. magar mere ghar ke log meri is aadat se bahut pareshaan rahte the..

lekin pichhle 2-3 bar se jab bhi patna jana hua tab der raat ghar lautate samay kisi ko bhi ghar me pareshaan nahi dekha.. shayad yahi naye Patna ki pahchaan ban rahi hai.. Kaash aisa hamesha hi rahe..

Aamen!!! :)

neeraj1950 said...

लालू जी क्या आप भी पढ़ रहे हैं जो लिखा गया है...????
नीरज

प्रेमचंद गांधी Prem Chand Gandhi said...

Very good post, Really we can see the changes in Bihar. I wish it should be continued for the betterment of state.

Suresh said...

Very good post
Asi varsh mujhe v patna jane ka mauka meela. shayed yahi naye Patna ki pahchaan ban rahi hai. aisa hamesha hi rahe.

Suresh Pandit
email: biharsamajsangathan@gmail.com
www.biharsamajsangathan.org

ashish jha said...
This comment has been removed by the author.
ashish jha said...

जो बात आप ने लिखी है, वो आप भी नहीं मानते, अगर आप बिहार नहीं जाते। मुझे खुशी है कि आप बिहार गए और रात मे पटना की सड़कों पर चलने की हिम्मत जुटाई। मैं सभी से निवेदन करता हूं कि बिहार जाइए, तभी दिखेगी बिहार की बदलती छवि।

sa said...

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,a片,AV女優,聊天室,情色,性愛